KRISHNA KUNJ, 14/E/63, Mansarovar yojna, Sector 1, Jaipur-302020
+91 9602374878

Blogs In Hindi

भगवद्गीता से बिज़नेस कैसे बढ़ाये

भगवद् गीता एक धार्मिक पुस्तक नहीं है। यदि मानव प्रकृति में जीवन रूपों में से एक के रूप में सर्वशक्तिमान ईश्वर की रचना है, तो भगवान गीता मनुष्यों के लिए अपने जीवन के माध्यम से खुद को संचालित करने के लिए मैनुअल है, जिसे कृष्ण ने अर्जुन द्वारा सवालों के जवाब के रूप में कहा है। भगवद् गीता से उद्धृत, श्री भूपेंद्र तायल, IIT खड़गपुर के पूर्व छात्र, श्री वीरेंद्र जेटली के सवालों का जवाब देते हैं, आधुनिक, कॉर्पोरेट, व्यक्तिगत और पारिवारिक जीवन के विभिन्न पहलुओं पर, IIT के कई अन्य अन्य लोगों द्वारा उठाए गए सवालों को भी स्पष्ट करते हैं जिन्होंने ‘भगवद् गीता का व्यवसाय प्रबंधन में प्रासंगिकता’ से जुड़े इस Q और A सत्र में भाग लिया।

संकीर्तन की महिमा

संकीर्तन वह होता है, जिसमें राग-रागिनियों के साथ उच्च स्वर से नामका गान किया जाय। भगवान् के नामके सिवाय उनकी लीला, गुण, प्रभाव आदि का भी कीर्तन होता है, परन्तु इन सबमें नाम-संकीर्तन बहुत सुगम और श्रेष्ठ है।
नाम-संकीर्तन में ताल-स्वर सहित राग-रागिनियों के साथ जितना ही तल्लीन होकर ऊँचे स्वर में नामका गान किया जाय, उतना ही वह अधिक श्रेष्ठ होता है।

भगवान प्रेम के भूखे हैं

भगवान् ने मनुष्य को ऐसी योग्यता दी है, जिससे वह तत्त्वज्ञान को प्राप्त करके मुक्त हो सकता है; भक्त हो सकता है; संसार की सेवा भी कर सकता है और भगवान् की सेवा भी कर सकता है। यह संसार की आवष्यकता की पूर्ति भी कर सके और भगवान् की भूख भी मिटा सके, भगवान् को भी निहाल कर सके-ऐसी सामर्थ्य भगवान् ने मनुष्य को दी है! और किसी को भी ऐसी योग्यता नहीं दी, देवताओं को भी नहीं दी।

भगवान् को भूख किस बात की है?

भगवान् को प्रेम की भूख है।

शीघ्र भगवत्प्राप्ति कैसे हो?

संसार के संबंध से दुःख-ही-दुःख होता है और परमात्मा के संबंध से आनन्द-ही-आनन्द। इन बातों को हम संत-महापुरूषों से सुनते हैं और स्वयं मानते हैं, फिर भी हमारा दुःख दूर क्यों नहीं हो रहा है? हमें भगवान् क्यों नहीं मिल रहे हैं?

लोग मूर्ति पूजा क्यों करते हैं?

एक बड़ा सवाल जो सबके मन में आता होगा लोग मूर्ति पूजा क्यों करते हैं? हमारे सनातन वैदिक सिद्धान्त में भक्तलोग मूर्ति का पूजन नहीं करते, प्रत्युत परमात्मा का ही पूजन करते हैं। तात्पर्य है कि परमात्मा के लिये मूर्ति बनाकर उस मूर्ति में उस परमात्मा का पूजन करते हैं, जिससे सुगमतापूर्वक परमात्मा का ध्यान-चिन्तन होता रहे।

ज्यादातर लोग भगवद गीता को क्यों नहीं पढ़ते या समझते हैं?

Why do most people not read or understand Bhagavad Gita? There are three main reasons for it.
First, there is very little promotion of Bhagavad Gita in society. Second, people do not..

भगवान् का भजन क्यों ज़रूरी है

No one wants death, but it is approaching every moment. We are losing 900 breaths per hour, 21600 breaths every day. We must pay attention to this. Breaths are being spent but what are we earning? What are we happy about?

मोह का त्याग विवेक के साथ

Moh or attraction/love towards material things is the biggest source of dissatisfaction amongst most of us. In chapter 2 of Bhagavad Gita, Shri Krishna gave Arjuna the key to control your affection towards things and follow the path of virtue. Read this blog to know more about it.

जीवन जीने की कला

भगवद्गीता व्यवहार क्षेत्र में जीवन जीने की कला सिखाती है। वह बताती है कि हम कैसे अपने जीवन को गीता के आधार पर जीयें। हम जीवन में व्यवहार कैसे करें तथा अनुकूल-प्रतिकूल परिस्थितियों में कैसे कार्य करें कि हम चिंता शोक तनाव भय व अन्य विकारों से निजात पा सकें।
इसके लिए सर्वप्रथम तो हम यह समझें कि हम कौन हैं, हमारा परिचय क्या है?

कर्म योग की परिभाषा

हरे कृष्ण।
कर्म योग, गीता का पूरे विश्व को और मानव मात्र को दिया गया, वह अनुपम उपहार है जिससे प्राणी मात्र अपना और अपने परिवार देश समाज एवं विश्व का कल्याण कर सकता है।
कर्म योग वह गुप्त और रहस्यमयी विद्या है, जिस का विशद वर्णन भगवान श्रीकृष्ण श्रीमद भगवत गीता में करते हैं।
कर्म योग का वर्णन, जैसा गीता में किया गया है, वैसा विश्व के अन्य किसी भी धर्म अथवा ग्रंथ में नहीं।….

मैं – मेरापन कैसे मिटे ?

मैं शरीर हूॅ, शरीर मेरा है-यह मान्यता ही खास भूल है। 
आप विचार करें कि शरीर मिला है और मिली हुई चीज अपनी नहीं होती।

आप सभी जानते हैं कि मानव जन्म बहुत कीमती है और इसे प्राप्त करना बहुत कठिन है। पर यह इतना कीमती क्यों है?

यह इसलिए क्योंकि केवल मानव जीवन में ही आत्मा अनन्त आनंद प्राप्त कर सकती है। इतना ही नहीं मनुष्य उस अवस्था को भी प्राप्त कर सकता है जहाँ आनंद निरंतर बढ़ता रहता है। यह सब केवल ईश्वर की भक्ति और सेवा के माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है।

“कलयुग” में मानव जीवन प्राप्त करने वाला और भी अधिक भाग्यशाली है। कारण यह है कि कलयुग में मानव जीवन बहुत कम है, मनुष्य की औसत आयु केवल 100 वर्ष है। इसलिए कलियुग में बहुत कम समय के लिए मनुष्य को आध्यात्मिक जीवन जीना पड़ता है। इसके अतिरिक्त कलियुग में आध्यात्मिक ज्ञान और संयम प्राप्त करने से व्यक्ति भक्ति सेवा में संलग्न रहता है। इसीलिए कलियुग में मानव जीवन में जन्म लेने के लिए देवता भी तरसते हैं।

भगवान कृष्ण ने अपनी असीम कृपा से हम सभी को न केवल मानव जीवन दिया है, बल्कि कलियुग में दिया है। महान संत तुलसीदास ने यह भी कहा है कि यह मानव रूप हमें ईश्वर ने हमारे स्वयं के प्रयासों के कारण नहीं, बल्कि उनके अकारण परोपकार के कारण दिया है। इसलिए एक भी क्षण बर्बाद किए बिना हमें भगवान की भक्ति सेवा में जुट जाना चाहिए, ताकि शरीर के मरने से पहले हम अपने जीवन के लक्ष्य को प्राप्त कर सकें। अब हम जीवन के लक्ष्य को कैसे प्राप्त करेंगे?

श्रीमद्भगवद् गीता भगवान कृष्ण का पारलौकिक शब्द या गीत है, इसलिए इसके साथ किसी भी शास्त्र की तुलना नहीं की जा सकती। श्री कृष्ण ने श्रीमद् भागवतम् में यह भी कहा है कि मानव जीवन में आत्मा अपने लक्ष्य को केवल भगवद् गीता में उसके द्वारा बताए गए तरीकों से प्राप्त कर सकती है (और इस प्रकार आध्यात्मिक पूर्ति तक पहुँचती है)। उन्होंने आगे कहा है कि मानव जीवन को सफल बनाने के लिए उनके द्वारा प्रचारित लोगों के अलावा कोई अन्य तरीका नहीं है।

अतः हमारी सदैव यही कोशिश रही है की हम सभी को भगवान् भक्ति के मार्ग पर चलने की प्रेरणा देते रहें। इसी क्रम में भगवद गीता के अलग अलग अंशों से हमें क्या सीख मिलती है और उसे हम जीवन में उतार कैसे अपना जीवन सफल बना सकते हैं, यह सब लेखों और ब्लॉग के माध्यम से आप तक पहुँचाने की कोशिश है। आप इन लेखों को पढ़ें तथा शेयर भी करें जिससे आप अपने मित्रों को भी भगवान् भक्ति की प्रेरणा दें।